देहरादून में हाथियों के मरने की बढ़ती घटनाएं

0
141

ऐक के बाद ऐक मिलते हाथियों के शव व कंकाल

उत्तराखंड में देहरादून वन प्रभाग की बड़कोट रेंज में बीते मंगलवार की शाम मृत मिले टस्कर हाथी का बुधवार को डॉक्टरों की टीम ने पोस्टमार्टम किया। लेकिन रिपोर्ट में भी मौत के कारणों का खुलासा नहीं हो पाया है। मृत हाथी का बिसरा अब भारतीय पशु चिकित्सा अनुसंधान संस्थान (आईवीआरआई) बरेली भेजा जाएगा। बता दें कि संदिग्ध परिस्थितियों में मौत होने पर बिसरा जांच की जाती है। पिछले कुछ महीनों से हाथीयों के मरने की वारदात बढ़ती नज़र आ रही है। बीते 16 जुलाई को देहरादून वन प्रभाग की लच्छीवाला रेंज में एक हाथी के कंकाल के कुछ अंश बरामद हुए थे। वन विभाग ने बिना डीएनए परीक्षण के ही इसे मादा बताकर मामला रफा-दफा कर दिया था। दूसरी घटना 16 सितंबर को थानों रेज में हुई। यहां वन विभाग की चौकी के पास ही 50 साल का एक हाथी मृत मिला था, जिसके दोनों दांत शिकारी काटकर ले गए थे। हालांकि बाद में हाथी दांत के साथ ही शिकारी भी पकड़ लिए गए थे। अब एक बार फिर वन कर्मियों को करीब 5 दिन बाद एक और हाथी की मौत ने चौंका दिया है।

LEAVE A REPLY