एमएलए की बेटी लौटी पहाड़, स्वरोजगार मिशन की जगाई उम्मीद

0
2733

पहाड़ की ओर लौटते उत्तराखंड के युवा उम्मीद जगाते हैं कि शायद आने वाला कल इस पहाड़ के लिए अच्छा होगा। जहां आज रोजगार की तलाश में धीरे-धीरे पहाड़ खाली हो रहे हैं, वहीं कुछ प्रतिभाएं ऐसी भी हैं, जो लिख-पढ़कर अपने गांव लौट रही हैं और यहीं रहकर खुद के साथ दूसरे लोगों की जिंदगी बदलना चाहती हैं।

priyanka3

उत्तरांजन डॉट कॉम हमेशा ऐसे लोगों को सामने लाने का प्रयास करता है, जो अपने पहाड़ के लिए कुछ करना चाहते हैं, जिनके मन में पहाड़ के लिए टीस उठती है।

और पढ़ें: उत्तराखंड के इन युवाओं में है दम, ये नहीं किसी से कम

आज हम आपको ऐसी ही एक युवा सोच से मिला रहे हैं, जो पहाड़ लौटकर यहीं रहते हुए ऐसा कुछ करना चाहती हैं, जिससे वे खुद के साथ दूसरों की जिंदगी में भी कुछ बदलाव ला सकें। नाम हैं प्रियंका नौटियाल….

पूर्व विधायक मां आशा नौटियाल ने भी किया प्रोत्साहित

प्रियंका नौटियाल पुत्री रमेश प्रसाद नौटियाल ने ग्र्रामीण स्वरोजगार की शुरूआत मशरूम उत्पादन के साथ अपने गांव उखीमठ से की है। देहरादून स्थित ग्राफिक एरा यूनिवर्सिटी से बायोटेक्स में बीटेक करने के बाद प्रियंका अब तक दून में ही एक फार्मा कंपनी में बतौर माइक्रो बायोलॉजिस्ट जॉब कर रही थीं, लेकिन पिछले कुछ दिनों में उन्होंने अपने गांव लौटकर कुछ करने की ठानी है।

और पढ़ें: तूलिकाओं के स्नेह से खिल उठीं सौड की उजड़ी दीवारें

priyanka5

प्रियंका गांव में रहकर स्वरोजगार अपनाना चाहती हैं। इसी के तहत उन्होंने गांव में मशरूम उत्पादन शुरू किया है। जिसकी उन्होंने बकायदा मशरूम कार्यालय देहरादून से ट्रेनिंग ली है। इसके अलावा गढ़ माटी संगठन की रंजना रावत के सहयोग से उन्होंने 100 बैग के साथ अपनी पहली मशरूम यूनिट स्थापित की है, जिसमें उत्पादन भी शुरू हो गया है। प्रियंका का मानना है कि गांव में यदि सामूहिक रूप से खेती की जाए तो बहुत कुछ किया जा सकता है। वह भी कुछ ऐसा ही करना चाहती हैं, जिसमें गांव के लोग खासकर महिलाएं आर्थिक रूप से मजबूत बन सकें। प्रियंका बताती हैं कि इसके लिए उनके दिमाग में कुछ प्लान हैं, जिन्हें वह जल्दी ही धरातल पर उतारेंगी। आपको बताते चलें कि प्रियंका की मां आशा नौटियाल पूर्व में दो बार विधायक रह चुकी हैं।

और पढ़ें: मशरूम लेडी दिव्या का नया धमाल, घर में बनी लैब में उगा दी कीड़ाजड़ी

और पढ़ें: रामदेव से टक्कर लेने को तैयार हैं हरिओम

asha nautyiya

उन्होंने भी बेटी के इस प्रयास को सराहा है। वह भी चाहती हैं कि हमारे पहाड़ के नौजवान कुछ रुपयों के लिए शहरों की खाक न छाने, बल्कि गांव में रहकर यहीं आसपास रोजगार के साधन पैदा करें। इससे एक तो वह अपने घर-परिवार के पास रह पाएंगे और दूसरा अपने लोगों के बीच में रहकर उन्हें भी आगे बढ़ा पाएंगे। अपनी माटी की इससे बड़ी दूसरी सेवा नहीं हो सकती।
टीम उत्तरांजन की तरफ से प्रियंका को भविष्य की ढेर सारी शुभकामनाएं….

और पढ़ें: पहाड़ में रहकर, पहाड़ लौटने का दिखा रहीं रास्ता

LEAVE A REPLY